कुँवर नारायण

कुँवर नारायण (१९ सितम्बर १९२७-१५ नवम्बर २०१७) हिन्दी साहित्यकार थे। नई कविता आन्दोलन के सशक्त हस्ताक्षर कुँवर नारायण अज्ञेय द्वारा संपादित तीसरा सप्तक (१९५९) के प्रमुख कवियों में रहे हैं। 2009 में उन्हें वर्ष 2005 के लिए भारत के साहित्य जगत के सर्वोच्च सम्मान ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया गया। उनकी प्रकाशित कृतियाँ हैं; कविता संग्रह: चक्रव्यूह (१९५६), तीसरा सप्तक (१९५९), परिवेश : हम-तुम (१९६१), अपने सामने (१९७९), कोई दूसरा नहीं (१९९३), इन दिनों (२००२), कविता के बहाने (१९९३): खंड काव्य: आत्मजयी (१९६५) और वाजश्रवा के बहाने (२००८); कहानी संग्रह: आकारों के आसपास (१९७३), बेचैन पत्तों का कोरस; समीक्षा विचार: आज और आज से पहले (१९९८), मेरे साक्षात्कार (१९९९), साहित्य के कुछ अन्तर्विषयक संदर्भ (२००३); संकलन: कुंवर नारायण-संसार (चुने हुए लेखों का संग्रह) २००२, कुँवर नारायण उपस्थिति (चुने हुए लेखों का संग्रह) (२००२), कुँवर नारायण चुनी हुई कविताएँ (२००७), कुँवर नारायण- प्रतिनिधि कविताएँ (२००८)।


Kunwar Narayan Hindi Stories